Story chudai ki adult sex kahani

Hindi adult story,xxx story hindi,hindi sex story,chudai ki story,xxx chudai story,hindi sex kahani,xxx kahani,sex kahani,xxx chudai,chudai ki kahani,xxx adult kahani,xxx stories hindi,maa ki chudai,behan ki chudai,didi ki chudai,bhabhi ki chudai,xxx kamasutra sex stories,behan ki chudai,aunty ki chudai,mami ki chudai,bhai behan ki adult story,baap beti ki adult story,maa bete ki sex,devar bhabhi ki sex kahani

कुत्ते के साथ औरत की सेक्स xxx story hindi

adult xxx kahani,सेक्स कहानी, कुत्ते के लंड के मज़े,जानवर के साथ औरत की चुदाई ki xxx story hindi,घोड़े ने चोदा animal sex story,कुत्ते ने चोदा kutte ke saath aurat ki sexकुत्ते ने की मेरी पहली चुदाई,कुत्ते ने चूत में लंड फँसा दिया.टॉमी के मुँह पर से समीना का हाथ उसकी गर्दन पर आ गया और फिर उसके पेट को सहलाने लगी। जब समीना की नज़र टॉमी की खुली और फ़ैली हुई टाँगों पर पड़ी… और उसे वहाँ वो ही चीज़ नज़र आयी जिसे वो थोड़ी देर पहले अपने पांव और सैंडल से सहला रही थी। समीना की नज़र उसी पर जम कर रह गयी… टॉमी के लंड पर! वो उसे देखे जा रही थी… बिना किसी और तरफ़ देखे… बिना अपनी पलकें झपकाये। वो सुर्ख रंग का लंबा सा… चमकता हुआ किसी हड्डी की तरह ही लग रहा था। मगर इस वक़्त बहोत ज्यादा अकड़ा हुआ नहीं था फ़िर भी काफ़ी लंबा लग रहा था। करीब-करीब आठ इंच तो होगा वो इस वक़्त भी। आगे से बिल्कुल पतला सा नोकदार और पीछे को जाते हुए मोटा होता जाता था… फैलता जाता था। उसके लंड के अगले सुराख में से भी हल्का-हल्का पानी रिस रहा था। समीना का हाथ अभी भी टॉमी के जिस्म पर था और उसकी पसलियों को सहला रहा था। समीना का हाथ आहिस्ता-आहिस्ता आगे को सरकने लगा… टॉमी के लंड की तरफ़!

उसका दिल ज़ोर-ज़ोर से धड़क रहा था। वो खुद को रोकना चाह रही थी मगर उसका जिस्म उसके काबू में नहीं था। हाथ आहिस्ता-आहिस्ता सरकता हुआ आगे को बढ़ रहा था। चंद लम्हों में ही समीना का हाथ टॉमी के लंड के करीब पहुँच चुका हुआ था। अपने धड़कते हुए दिल के साथ समीना ने अपनी उंगली से उसके लंड की नोक को छुआ और फ़ौरन ही अपना हाथ वापस खींच लिया… जैसे उसमें कोई करंट हो… या जैसे उसका लंड उसकी उंगली को काट लेगा… या उसे डंक मार देगा! मगर टॉमी के लंड में ज़रा सी हरकत पैदा होने के सिवा और कुछ भी नहीं हुआ। उसका लंड वैसे का वैसे ही उसकी रान के ऊपर पड़ा रहा।कुछ ही देर के बाद समीना ने दोबारा से अपनी उंगली से टॉमी के लंड को छूना शुरू कर दिया। इस पोज़िशन में लेटे हुए समीना का हाथ बड़ी ही मुश्किल से टॉमी के लंड तक पहुँच रहा था। कुछ सोच कर समीना थोड़ा सी हरकत करते हुए टॉमी के जिस्म के निचले हिस्से की तरफ़ सरक गयी। अब उसकी उंगली बड़ी आसानी के साथ टॉमी के पूरे लंड पर सरक रही थी… उसे सहला रही थी। समीना ने टॉमी के चेहरे की तरफ़ देखा मगर उस जानवर ने कौनसा कोई अपने चेहरे से तासुरात देने थे जो वो समीना की हरकत से खुशी का इज़हार करता। ये चुदाई कहानी आप एडल्ट सेक्स कहानी डॉट कॉम पर पड़ रहे है।लेकिन एक बात की समीना को तसल्ली थी कि टॉमी कोई नापसंदीदगी भी नहीं दिखा रहा था और उसी की तरफ़ देखते हुए समीना के हाथ की पूरी उंगलियाँ उसके लंड के गिर्द लिपट गयीं। बहोत ही गरम… चिकना-चिकना और सख्त और लंबा और मज़बूत महसूस हो रहा था उसे टॉमी का लंड। समीना ने उसे अपने हाथ में ले कर आहिस्ता-आहिस्ता अपनी मुठ्ठी के अंदर ही उसे आगे पीछे करना शुरू कर दिया। टॉमी का लंड उसकी मुठ्ठी में आगे पीछे को सरक रहा था और उसके लंड के चिकनेपन से समीना का हाथ भी चिकना हो रहा था। उसके लंड को महसूस करती हुई वो उसका मवाज़ना इंसानी लंड के साथ भी कर रही थी यानी अपने शौहर के लंड के साथ और बिना किसी चीज़ को नापे वो आसानी से कह सकती थी कि टॉमी का लंड उसके शौहर के लंड से लंबा और मोटा है।

समीना के सहलाने से… उसकी मुठ मारने से… टॉमी को भी शायद मज़ा आने लगा था। वो पहले तो उसी तरह लेटा रहा मगर फ़िर अपनी जगह से उठ कर खड़ा हो गया। समीना अभी भी टॉमी के करीब नीचे कार्पेट पर ही लेटी हुई थी और अब टॉमी उसके सामने खड़ा था। मगर अब समीना को उससे कोई भी… किसी किस्म का भी खौफ़ महसूस नहीं हो रहा था। उसके अचानक उठ कर खड़ा होने से उसका लंड समीना के हाथ से निकल गया था मगर उसे अपनी जगह से कहीं आगे ना जाते हुए देख कर समीना ने एक बार फ़िर से उसका लंड पकड़ लिया और आहिस्ता-आहिस्ता उसे सहलाने लगी। टॉमी अगर अपने लंड को अभी भी समीना के हाथ में दिये रखना चाहता था तो समीना का दिल भी उसके लंड को अपने हाथ से छोड़ने को नहीं चाह रहा था। अब वो नीचे कार्पेट पर पड़ी हुई टॉमी के पेट के नीचे उसके फ़र में से खाल में हो रहे हुए सुराख में से निकालते हुए लंड को देख रही थी… उसे छू रही थी और अपने हाथ में ले कर एक बार फ़िर से उसे आगे-पीछे कर रही थी। टॉमी के लंड में से निकलने वाला कोई लेसदार सा मवाद… साफ़ ज़ाहिर है कि… टॉमी की मनी ही थी वो… निकल-निकल कर समीना के हाथ पर लग रही थी। ये चुदाई कहानी आप एडल्ट सेक्स कहानी डॉट कॉम पर पड़ रहे है।मगर वो अपनी ही इस नयी दुनिया में मगन… उसे अपने हाथ आयी हुई ये नयी चीज़ अच्छी लग रही थी। समीना को महसूस हुआ कि अब टॉमी का लंड पहले की निस्बत अकड़ चुका हुआ है… और भी सख्त हो चुका है! समीना का हाथ उसके लंड पर पीछे को जाने लगा… उसकी जड़ तक… और पीछे उसे कुछ और ही चीज़ महसूस हुई… कुछ मोटी सी… गोल सी… बहोत बड़ी सी! समीना अब थोड़ा और भी टॉमी के लंड की तरफ़ सरक आयी। काफ़ी करीब पहुँच चुकी थी वो उसके लंड के और अब वो उसकी तरफ़ देखने लगी। ये टॉमी के लंड का आखिरी हिस्सा था जोकि किसी गेंद की तरह मोटा और फूला हुआ था… मुर्गी के अंडे के जितना मोटा और बड़ा। अब बहोत करीब से टॉमी का लंड देखने पर उसे और भी ये अजीब लग रहा था। लंबा सा मोटा सा हथियार था कुत्ते का जिस पर छोटी-छोटी रग़ें ही रग़ें थीं…. गहरे नीले रंग की! उन गहरी नीली रग़ों की तादाद इतनी ज्यादा थी उसके लंड पर कि उसके लंड का सुर्ख रंग अब जामुनी सा हो रहा था।

अपने हाथ में पकड़ कर टॉमी के सुर्ख लंड को सहलाते हुए समीना की नज़रों में वो तमाम फ़िल्में चल रही थीं जानवरों से चुदाई की जो उसने पहले देख रखी थीं। उसके दिमाग में घूम रहा था कि कैसे औरतें कुत्तों के लन्न मुँह में ले कर चूसती हैं… कैसे उसे अपनी ज़ुबान से चाटती हैं! पहले जब उसने ये सब देखा था तो उसे हैरत होती थी मगर अब इस वक़्त हक़ीक़त में एक कुत्ते का लंड अपने हाथ में पकड़ कर उसे सहलाते हुए उसका ज़हन कुछ बदल रहा था। अब उसे इतना अजीब नहीं लग रहा था। बल्कि उसका दिल चाह रहा था कि आज एक बार… सिर्फ़ एक बार… पहली और आखिरी बार… वो भी इस कुत्ते के लंड को अपनी ज़ुबान लगा कर चेक तो करे कि कैसा लगता है उसका ज़ायका! और क्या सच में कोई मज़ा भी आता है या कि नहीं! यही सोचते हुए बिल्कुल ग़ैर-इरादी तौर पर और ऐसे कि जैसे वो किसी जादू के ज़ैर असर हो… आहिस्ता-आहिस्ता टॉमी के लंड की तरफ़ बढ़ रही थी… बिल्कुल करीब! उसके होंठ टॉमी के लंड के बिल्कुल करीब पहुँच चुके थे। उसका अपना दिमाग बिल्कुल बंद हो चुका हुआ था। ये चुदाई कहानी आप एडल्ट सेक्स कहानी डॉट कॉम पर पड़ रहे है।वो कुछ भी और नहीं सोच रही थी। बस उसे टॉमी का लंड ही नज़र आ रहा था। बिना सोचे समझे आखिरकार समीना ने अपने होंठों के साथ टॉमी के लंड को छू लिया… सिर्फ़ एक लम्हे के लिये… और फ़ौरन ही उसका मुँह पीछे हट गया। समीना को हैरत हुई कि उसे ये बुरा नहीं लगा था। डरते-डरते समीना ने टॉमी की तरफ़ देखा… फ़िर अपने इर्द गिर्द एक नज़र दौड़ायी… ये देखने के लिये कि कोई उसे देख तो नहीं रहा। फ़िर अपनी तसल्ली करने के बाद उसने दोबारा अपने होंठ टॉमी के लंड की तरफ़ बढ़ाये और एक बार फ़िर उसके लंड को अपने होंठों से छुआ। अपना हाथ पीछे के हिस्से में ले जा कर समीना ने उसके लंड के मोटे गोल हिस्से के पीछे से टॉमी के लंड को अपने हाथ की गिरफ़्त में लिया और अपने होंठों को जोड़ कर उसके लंड पर लंबाई के रुख फिराने लगी। अजीब सा मज़ा आने लगा था समीना को। वो अपने होंठों से जैसे उसके लंड को सहला रही थी… चूस रही थी!

कुछ देर तक ऐसे ही अपने होंठों के साथ टॉमी के लंड को सहलाने के बाद समीना का खौफ़ और झिझक खतम हो रही थी। उसे जैसे-जैसे ये सब अच्छा लग रहा था… वो वैस- वैसे ही खुलती जा रही थी। साथ ही उसके होंठ भी खुले और उसकी ज़ुबान बाहर निकली और उसने अपनी ज़ुबान की नोक के साथ टॉमी के लंड को सहलाना शुरू कर दिया। वो उसके लंड पर अपनी ज़ुबान आहिस्ता-आहिस्ता फिराने लगी… उसकी नोक से ले कर उसकी पीछे की मोटी गोलाई तक। समीना अब अपनी ज़ुबान फिराती हुई उसके लंड को महसूस कर रही थी।  कुछ अजीब सी चीज़ लग रही थी… नयी सी… जमाल के लंड से मुखतलीफ़… अजीब सा मगर अच्छा! समीना ने अपनी ज़ुबान को टॉमी के लंड की नोक पर रखा और उसे अपनी ज़ुबान से चाटने लगी। समीना को हैरत हुई कि उसमें से वक्फ़े-वक्फ़े से थोड़ा-थोड़ा पानी निकल रहा था… ये चुदाई कहानी आप एडल्ट सेक्स कहानी डॉट कॉम पर पड़ रहे है।हल्की सी धार की सूरत में और एक बार तो जब समीना की ज़ुबान उसकी नोक पर थी तो वो ही पानी उसकी ज़ुबान पर आ गया। समीना ने फ़ौरन अपन मुँह पीछे हटा लिया मगर ज़ुबान पर उसका ज़ायका रह गया। तभी समीना को लगा… एहसास हुआ कि उसका ज़ायका कुछ इतना भी बुरा नहीं है। समीना ने अब एक बार फ़िर अपनी ज़ुबान से उसके लंड को चाटना शुरू कर दिया और फ़िर पीछे अपनी ज़ुबान ले जा कर उसकी मोटी गेंद को चाटा। समीना ने एक बार फ़िर हिम्मत करके उसके लंड की टोपी को अपने होंठों के बीच में लिया और उसे चूसने लगी… आँखें बंद करके… कुछ भी ना सोचते हुए… मगर उसके लंड से निकलने वाले पानी को कबूल करते हुए!

फ़िर टॉमी के लंड से उसका हल्का-हल्का पानी निकल कर समीना के मुँह के अंदर गिरने लगा मगर इस बार समीना ने उसके लंड को अपने मुँह से बाहर नहीं निकाला और उसे चूसने लगी। उसके लंड का पानी निकल-निकल कर समीना के मुँह के अंदर गिरने लगा। कुछ अजीब सा ज़ायका लग रहा था उसे… मर्द के लंड से मुखतलीफ़! गाढ़ा पानी नहीं था मर्द की तरह बल्कि पतला-पतला सा था… नमकीन सा… कसैला सा… जोकि अब समीना के हलक़ से नीचे उतर रहा था… उसके गले में से होता हुआ उसके पेट के अंदर। समीना को ये ज़रा भी बुरा नहीं लग रहा था। वो अब अपने हाथों और घुटनों के बल झुकी हुई थी और टॉमी का लंड अपने हाथ में पकड़ कर उसे अपनी ज़ुबान से चाट रही थी और कभी उसे मुँह के अंदर लेती और चूसने लगती। सब कुछ भूलभाल कर समीना अब सिर्फ़ मज़ा ले रही थी। खुद को पूरी तरह से अपने कुत्ते के साथ मस्त कर चुकी हुई थी… जानवर और इंसान का फ़र्क़ खतम कर चुकी थी और उसके लंड को चूसती चली जा रही थी।ये चुदाई कहानी आप एडल्ट सेक्स कहानी डॉट कॉम पर पड़ रहे है।टॉमी ने अपनी जगह से हरकत करते हुए अपना लंड समीना के हाथ में से छुड़वाया और घूम कर समीना के पीछे आ गया और समीना की गोरी-गोरी गाँड को चाटने लगा। उसकी ज़ुबान समीना की गाँड के बीच में घुसती हुई उसकी चूत तक पहुँच रही थी। और जैसे ही एक बार फ़िर से टॉमी की ज़ुबान समीना की चूत से टकराने लगी तो समीना की चूत की आग एक बार फ़िर से भड़कने लगी। टॉमी अब पूरी तरह से मुथर्रक हो चुका हुआ था। कभी वो समीना की चूत को चाटता तो कभी उसकी गाँड को चाटने लगता। इधर समीना का भी बुरा हाल हो रहा था लज़्ज़त के मारे। वो अपनी कोहनियाँ ज़मीन पर टिका कर अपना सिर अपने हाथों पर रखे अपनी गाँड को और भी ऊपर के उठा कर नीचे झुकी हुई थी। टॉमी उसकी चूत को चाट रहा था और समीना मुँह से निकलने वाली सिसकारियों से पूरा कमरा गूँज रहा था।

अचानक टॉमी ने एक छलांग लगायी और अपनी दोनों अगली टाँगें समीना की कमर पर रख कर उसके ऊपर चढ़ गया। उसके अगले दोनों पांव समीना की कमर पर थे और पीछे से उसने अपने लंड को समीना की गाँड से टकराना शुरू कर दिया। समीना समझ गयी कि वो अब अपना लंड उसकी चूत में दाखिल करना चाहता है। वो घबरा गयी। ऐसा तो उसने नहीं सोचा था। इस हद तक जाना उसके प्रोग्राम में शामिल नहीं था। वो तो बस अपनी चूत चटवाने तक का मज़ा चाहती थी। मगर अब तो शायद बात उसके कंट्रोल से निकल रही थी। टॉमी उसके ऊपर चढ़ कर उसको चोदने की तैयारी में था। समीना घबरा गयी। उसने जल्दी से उठ कर अपनी जगह से खड़ी होना चाहा मगर टॉमी ने अपना पूरा वज़न समीना की कमर पर डाल दिया और अपने अगले पैरों की गिरफ़्त उसके कंधों पर और मज़बूत कर दी। और पीछे से अपना लंड और भी तेज़ी के साथ उसकी गाँड की दरार में मारने लगा… उसे समीना की चूत में दाखिल करने के लिये। समीना अब काफ़ी खौफ़ज़दा थी मगर कुछ और भी तो अजीब हो रहा था। वो ये कि जब-जब टॉमी का लंड समीना की चूत से टकराता तो उसे अलग ही मज़ा मिलता… उसे अलग ही दुनिया की सैर करवाता।ये चुदाई कहानी आप एडल्ट सेक्स कहानी डॉट कॉम पर पड़ रहे है।एक तरफ़ तो समीना को अच्छा लग रहा था। उसका दिल चाह रहा था कि वो खुद टॉमी का लंड अपनी चूत में ले ले… ये सोच कर कि अगर इतना मज़ा सिर्फ़ लंड के बाहर से उसकी चूत से टकराने से मिल रहा है तो अगर ये लंड चूत के अंदर चला जायेगा तो फ़िर उसे कितना मज़ा देगा। मगर दूसरे ही लम्हे उसे कुछ और खयाल आने लगता… अपनी हैसियत का… अपने एक इंसान… एक औरत होने का… और ये कि वो तो एक जानवर है… कुत्ता है… तो वो कैसे एक कुत्ते का लंड अपनी चूत के अंदर डलवा कर खुद को उससे चुदवा सकती है। कैसे एक कुत्ते के सामने कुत्तिया बन कर खड़ी हो सकती है… कैसे एक कुत्ते को खुद को चोदने की इजाज़त दे सकती… कैसे एक कुत्ते को इजाज़त दे सकती है कि वो उसे अपनी कुत्तिया समझ कर चोद डाले! ये सोच कर उसने एक बार फ़िर से खुद को अपनी उस पोज़िशन से… कुत्तिया की पोज़िशन से… खड़ा करने का इरादा किया… एक कोशिश की… मगर… मगर अब तो सब कुछ उसके बस से बाहर था। वो तो अब अपने टॉमी की… एक कुत्ते की गुलामी में थी… उसके नीचे… और वो कुत्ता अपना लंड उसकी चूत के अंदर डालने की कोशिश में था।

जैसे ही टॉमी ने महसूस किया कि समीना एक बार फ़िर से उसके नीचे से निकलने के लिये ज़ोर लगा रही है… उसे अपनी चूत दिये बिना उसके नीचे से निकलना चाहती है… तो उसने अपनी गिरफ़्त उसके जिस्म पर और भी सख्त कर दी और फ़िर अपना आखिरी हरबा भी आज़मा लिया। उसने अपना मुँह खोल कर समीना की गर्दन को अपने नोकीले लंबे-लंबे खौफ़नाक दाँतों के बीच में ले लिया और उसकी गर्दन पर अपने दाँतों का दबाव बढ़ाने लगा। जैसे ही समीना को अपनी गर्दन के गोश्त में टॉमी के दाँत घुसते हुए महसूस हुए तो वो खौफ़ के मारे अपनी जगह पर साकीत हो गयी कि कहीं टॉमी सच में ही उसकी गर्दन को ना काट ले। जैसे ही समीना ने अपनी हरकत बंद की तो ये एक लम्हा टॉमी के लिये काफ़ी था। उसने दोबारा से समीना की चूत पर हमला शुरू कर दिया। उसका लंड अब समीना की चूत के सुराख से टकरा रहा था और आखिर ऐसे ही एक ज़ोरदार धक्के के साथ टॉमी का मोटा लंड समीना की चूत की गहराइयों में उतर गया। और उसके साथ ही कमरे में समीना की एक दर्द भरी…  बहोत ही तेज़ चींख गूँज गयी। समीना ने दोबारा से टॉमी की गिरफ़्त से निकलने की कोशिश की मगर फ़ौरन ही उसे अपनी गर्दन में कील से घुसते हुए महसूस हुए और वो मज़ीद नहीं हिल सकी।ये चुदाई कहानी आप एडल्ट सेक्स कहानी डॉट कॉम पर पड़ रहे है।इधर पीछे से अब टॉमी का लंड पूरे का पूरा समीना की चूत के अंदर जा रहा था। समीना के कंधों को पकड़े हुए वो दनादन घस्से मार रहा था… समीना की चूत को चोद रहा था। उसका लंबा लंड बहोत गहरायी तक जा रहा था समीना की चूत के अंदर। समीना बिल्कुल बेबस हो चुकी हुई थी। वो चाहते हुए भी हिल नहीं पा रही थी। एक बात जो समीना को अजीब लग रही थी वो ये थी के टॉमी के धक्के मारने का अंदाज़ ऐसा था कि जैसे कोई मशीन चल रही हुई हो। इतनी तेज़ी के साथ टॉमी का लंड समीना की चूत के अंदर बाहर हो रहा था कि समीना को यक़ीन नहीं हो रहा था। मगर उसे अब ये बात भी कबूल करने में कोई शरम महसूस नहीं हो रही थी कि उसे भी टॉमी के लंड से चुदाई में मज़ा आना शुरू हो रहा था। समीना ने अब अपनी मुज़ाहमत बिल्कुल खतम कर दी हुई थी और दोबारा से कार्पेट पर अपने हाथों के ऊपर अपना सिर रख कर अपनी गाँड को और भी हवा में ऊपर को उठाती हुई अपनी गाँड को पीछे को धकेल रही थी। समीना की आँखें बंद हो रही थीं और चूत थी कि बस पानी ही छोड़ती जा रही थी। तेज़ रफ़्तार के साथ धक्के मारते हुए टॉमी का लंड समीना की चूत में से निकल गया। समीना ने फ़ौरन ही अपना हाथ पीछे अपनी रानों के बीच में ले जा कर टॉमी का लंड अपने हाथ में पकड़ा और उसकी नोक को दोबारा से अपनी चूत के सुराख पर टिका दिया और अगले ही लम्हे टॉमी का लंड एक बार फ़िर से समीना की चूत में उतर चुका था… और फ़िर से उसकी चूत की धुनाई शुरू हो चुकी थी!

लंड अंदर जाने के बाद से समीना की चूत तीन बार पानी छोड़ चुकी थी मगर टॉमी अभी तक लगा हुआ था। समीना निढाल होती जा रही थी। अचानक ही टॉमी ने एक ज़ोरदार धक्का मारा और फ़िर एकदम से साकीत हो गया मगर इस आखिरी धक्के के साथ ही समीना की एक बार फ़िर से चींख निकल गयी थी। उसे अपनी चूत फटती हुई महसूस हुई… जैसे कोई बहोत बड़ी चीज़ उसकी चूत में किसी ने डाल दी हो… गोल सी… मोटी सी! तभी समीना को खयाल आया के शायद टॉमी ने अपने लंड का आखिरी मोटा गोल हिस्सा भी उसकी चूत के अंदर फ़ंसा दिया है। लेकिन अब टॉमी कोई हरकत नहीं कर रहा था… बस समीना के ऊपर बिल्कुल आराम से खड़ा था… और समीना को अपनी चूत के अंदर टॉमी के लंड से उसकी गरम-गरम मनी गिरते हुई महसूस हो रही थी… और उसकी मनी की गर्मी से समीना की चूत ने एक बार फ़िर से पानी छोड़ दिया और वो सिर नीचे रखे-रखे लंबे-लंबे साँस लेने लगी।ये चुदाई कहानी आप एडल्ट सेक्स कहानी डॉट कॉम पर पड़ रहे है।अब समीना को लगा कि अपना पानी निकालने के बाद टॉमी भी अपना लंड उसकी चूत से निकाल लेगा मगर काफ़ी देर तक भी टॉमी ने अपना लंड बाहर नहीं निकाला तो समीना को परेशानी होने लगी। उसने खुद को हरकत दी और उसे नीचे उतरने को बोला मगर टॉमी अपनी जगह पर खड़ा था। अचानक टॉमी ने अपनी अगली टाँगें समीना के ऊपर से उतारीं और एक तरफ़ को घूम गया और साथ ही समीना की चींखें निकल गयीं। अब टॉमी अपने लंड और पीछे की गोलाई को पूरे का पूरा समीना की चूत में घुमाता हुआ अपना रुख मोड़ चुका था। अब समीना की गाँड टॉमी की गाँड के साथ लगी हुई थी। समीना ने खुद को आगे खींचते हुए उसका लंड अपनी चूत से निकालना चाहा मगर इस क़दर तकलीफ हुई के वो वहीं रुक गयी।

अचानक ही टॉमी ने आगे को चलना शुरू कर दिया। समीना का हैरत से बुरा हाल होने लगा… उसे फ़िक्र होने लगी। कुत्ता अब उसके कमरे से बाहर को जा रहा था और अपनी चूत में फंसे हुए टॉमी के लंड के साथ समीना भी उसके पीछे-पीछे खिंचने पर मजबूर थी। वो उल्टे क़दमों अपने घुटनों और हाथों पर टॉमी के पीछे-पीछे रेंग रही थी। समीना कराहते हुए बोली, “टॉमी…! टॉमी…! प्लिज़ज़ज़ स्टॉप! रुक जाओ…!”मगर टॉमी कहाँ सुन रहा था। वो तो उसे घसीटता हुआ लाऊँज में ले आया था और अब बीच लाऊँज में खड़ा हुआ हाँफ रहा था। इतने में दरवाज़े पर दस्तक हुई। समीना तो खौफ़ के मारे सुन्न हो कर रह गयी। वो ये सोच-सोच कर ही मरी जा रही थी कि अगर किसी ने उसे इस तरह कुत्ते के साथ देख लिया तो वो तो कभी किसी को मुँह दिखाने के काबिल ही नहीं रहेगी। उसके मुँह से कोई लफ़्ज़ नहीं निकल रहा था। उसने एक बार फ़िर से कोशिश की कि टॉमी का लंड उसकी चूत से बाहर निकल आये मगर नहीं! बाहर से खानसामा की आवाज़ आयी, “बीबी जी…! दरवाज़ा खोलें…! रात के लिये खाना बनाने का वक़्त हो गया है…!”ये चुदाई कहानी आप एडल्ट सेक्स कहानी डॉट कॉम पर पड़ रहे है।समीना खौफ़ से भरी हुई आवाज़ में बोली, “अभी थोड़ी देर के बाद आना… अभी नहीं! अभी मैं मसरूफ़ हूँ!”खानसामा “जी मालकिन” कह कर वापस चला गया। अब उसे क्या पता था कि उसकी मालकिन अंदर किस काम में मसरूफ़ है। उसे क्या मालूम था कि अंदर उसकी मालकिन अपने कुत्ते से चुद रही है। उसके जाने के बाद समीना ने कुछ सुकून का साँस लिया।कोई पंद्रह मिनट के बाद टॉमी का लंड उसकी चूत से बाहर निकला। उसने फ़ौरन ही समीना की चूत को चाटना शुरू कर दिया। वो अपनी मनी और समीना की चूत के पानी को चाट कर साफ़ करने लगा और समीना नीचे सिर झुकाये एक कुत्तिया की तरह उसके सामने झुकी रही। और फ़िर उसने करवट ली और कार्पेट पर ही सीधी हो कर लेट गयी… टॉमी की तरफ़ देखती हुई… हैरानी और शरम से… और फ़िर अचानक ही उसकी ज़ोरदार हंसी छूट गयी। वो कहकहे लगा कर ज़ोर ज़ोर से हंसने लगी… “हाहाहाहा… हाहाहाहा!”

“नॉट बैड… एइकचूअली इट वाज़ वंडरफुल… फैन्टैस्टिक!”  समीना के मुँह से हंसी के बाद यही अल्फ़ाज़ निकले और फ़िर वो अपनी जगह से उठी और टॉमी के सिर को सहला कर अपने कमरे की तरफ़ चल पड़ी दोबारा से फ्रेश होने के लिये।शाम को जमाल आया तो थोड़ी देर के लिये वो सैर करने के लिये निकल गया… टॉमी को भी साथ ले कर। समीना भी रोज़ उनके साथ जाती थी मगर आज उसका दिल नहीं किया क्योंकि वो कुछ कश-म-कश में थी कि ये सब क्या हुआ है। ये वो जानती थी के उसे मज़ा आया है… अच्छा लगा है… मगर ये बात उसके दिल में चुभ रही थी कि ये ठीक नहीं हुआ। उनके जाने के बाद वो लाऊँज में आयी और रेड-वाईन पीने लगी। वैसे तो वो और जमाल अक्सर शाम को खाने से पहले साथ में वाईन या कोई और शराब पीते थे लेकिन आज समीना ने जमाल का इंतज़ार नहीं किया क्योंकि आज उसे इसकी काफी ज़रूरत महसूस हो रही थी। वाईन पीते हुए उसकी नज़र एक कोने में लगे हुए टॉमी के बिस्तर की तरफ़ गयी। कुछ देर तक उसे देखती रही… वाईन पीती रही… और फ़िर उठ कर टॉमी के बिस्तर के पास आ गयी। चार फुट लंबाई का रुइ से भरा हुआ एक गद्दा था… बहोत ही नरम सा… जो कि टॉमी के बिस्तर के लिये इस्तेमाल किया जाता था। समीना उसके बिस्तर के करीब बैठ गयी और फ़िर अपना हाथ आहिस्ता-आहिस्ता टॉमी के बिस्तर पर फेरने लगी… उसे सहलाने लगी। ये चुदाई कहानी आप एडल्ट सेक्स कहानी डॉट कॉम पर पड़ रहे है।उसे अच्छा लग रहा था। वो अपनी जगह से थोड़ा सा हिली और फ़िर टॉमी के बिस्तर पर बैठ गयी। उसे टॉमी के बिस्तर पर बैठना अच्छा लग रहा था। धीरे-धीरे उस पर हाथ फेरती हुई वो टॉमी के बिस्तर पर लेट गयी। समीना अपना चेहरा उस नरम-नरम बिस्तर पर फेरने लगी… अपनी नाक उस पर रगड़ने लगी। बिस्तर में से अजीब सी बू आ रही थी… जानवर के जिस्म की। मगर समीना को बुरी नहीं बल्कि अच्छी लग रही थी। वो बस अपना चेहरा उस पर रगड़ती जा रही थी। उसका दिल चाह रहा था कि वो अपना नंगा जिस्म उस पर सहलाये। समीना ने बिना कुछ सोचे अपनी शर्ट को नीचे से पकड़ कर ऊपर उठाया और एक ही लम्हे में अपने जिस्म से अलग कर दिया और फ़िर बाकी कपड़े भी उतार के नंगी हो कर कुत्ते के बिस्तर पर लेट गयी। वो अपना नंगा गोरा-गोरा चिकना-चिकना जिस्म उस नरम-नरम बिस्तर पर रगड़ने लगी। नरम-नरम रेशमी बिस्तर के नरम-नरम रेशमी जिस्म के साथ रगड़ने से उसे बहोत अच्छा लग रहा था। वो अब फ़िर से अपने गालों को इस बिस्तर से रगड़ रही थी… आँखें बंद किये हुए… जैसे वो इस कुत्ते को अपना सब कुछ तस्लीम कर चुकी हो… मान चुकी हो। कुछ देर में बेल हुई तो समीना जैसे होश में वापस आयी। जल्दी से उठ कर कपड़े पहने और ऊँची हील की सैंडल फर्श पर टकटकाती और मुस्कुराती हुई दरवाज़ा खोलने के लिये चली गयी।

फिर दोनों बैठ कर खाना खाने लगे। टॉमी भी हस्ब मामूल उनके साथ ही था। खाने के बाद दोनों लाऊँज में ही बैठे टीवी देख रहे थे और टॉमी भी समीना के पैरों में ही बैठा हुआ था। जमाल खान उससे दूर दूसरी तरफ़ था। समीना अपना सैंडल वाला पैर टॉमी के जिस्म पर फेर रही थी… कभी उसके सिर पर अपना सैंडल का चिकना तलवा फिराती और कभी उसके पेट को अपने पैर से सहलाने लगती। आहिस्ता-आहिस्ता उसका पैर खुद-ब-खुद ही टॉमी के पेट के नीचे की तरफ़ जाने लगा। जमाल खान अगर उसकी तरफ़ देखता भी तो उसे पता नहीं चलता कि वो क्या कर रही है। समीना ने अपना पांव टॉमी के लंड वाले हिस्से की तरफ़ बढ़ाना शुरू कर दिया. और फ़िर अपने सैंडल के अगले सिरे और पैरों की उंगलियों से उसके लंड को सहलाना शुरू कर दिया। टॉमी ने फ़ौरन अपना सिर ऊपर उठाया और समीना की तरफ़ देखने लगा। समीना के होंठों पर खेलने वाली मुस्कुराहट को देख कर उसने दोबारा से अपना सिर नीचे रख दिया। टॉमी का लंड जो कि अभी तक उसकी खाल के अंदर ही था… आहिस्ता-आहिस्ता उसकी खाल से बाहर निकलने लगा। ये चुदाई कहानी आप एडल्ट सेक्स कहानी डॉट कॉम पर पड़ रहे है।कुछ ही देर में उसके सुर्ख-सुर्ख लंड की अगली नोक और अगला आधा हिस्सा उसकी खाल से बाहर थे और उसे देखते ही समीना खिल उठी। इस लंड को देखते हुए उसे याद आने लगा के कैसे इस लंड ने उसकी चूत के अंदर दाखिल हो कर उसे बेइंतेहा मज़ा दिया था… कैसे टॉमी अपने लंड को उसकी नाज़ुक सी चूत के अंदर-बाहर कर रहा था… कैसे वो दनादन धक्के मार रहा था। समीना कभी टॉमी के लंड को देखती और कभी उसके मुँह को। समीना को टॉमी पर कोई गुस्सा नहीं था बल्कि जो मज़ा और जो लज़्ज़त टॉमी ने उसे दी थी, उसके बाद तो वो उसकी दिवानी हो गयी थी। टॉमी के लिये उसकी मोहब्बत और चाहत बढ़ गयी थी और उसकी मोहब्बत का अंदाज़ भी बदल गया था। समीना के सैंडल और पैर कि उंगलियों का अगला सिरा टॉमी के चिकने-चिकने सुर्ख रंग के लंड को सहला रहे थे। समीना ने उसके लंड को अपने सैंडल और पैर की उंगलियों के बीच में लिया और अपने पैर को उसके लंड पर ऊपर से नीचे को सहलाने लगी… जैसे कि वो टॉमी के लंड कि मुठ मार रही हो। समिना!

टॉमी ने अपना सिर मोड़ कर अपने लंड कि तरफ़ देखा और फ़िर अपना मुँह समीना के दूसरे पैर पर रख दिया जो उसके करीब था और अपनी ज़ुबान से समीना के पांव और सैंडल को चाटने लगा। समीना को भी अच्छा लग रहा था। टॉमी ने अपना मुँह खोल कर समीना के गोरे-गोरे नाज़ुक पैर को सैंडल के साथ अपने दाँतों के अंदर लिया और उसे आहिस्ता-आहिस्ता दबाने लगा… काटने लगा। उसके नोकीले दाँत समीना के पैर में ऊपर और सैंडल के तलवे में धंस रहे थे और समीना को हल्का-हल्का लज़्ज़त अमेज़ दर्द होने लगा था। समीना के चेहरे पर लज़्ज़त के साये लहराने लगे थे। एक बार जब टॉमी ने थोड़ा ज़ोर से उसके पैर को अपने दाँतों से दबाया तो समीना के मुँह से सिसकारी निकल गयी। उसे सुन कर जमाल खान ने चौंक कर समीना की तरफ़ देखा तो उसे समीना का पैर टॉमी के मुँह के अंदर नज़र आया तो वो खौफ़ज़दा हो गया।जमाल बोला, “समीना…! समीना …! ये क्या कर रहा है टॉमी…! हटाओ उसे!”समीना मुस्कुरायी, “डोन्ट वरी डार्लिंग…! कुछ नहीं कहता टॉमी! ये तो बस लाड़ कर रहा है… जस्ट रिलैक्स डियर!”जमाल खान भी देखने लगा कि टॉमी बस उसके पैर को अपने दाँतों के अंदर लेता है और फ़िर अपने मुँह से उसका पैर निकाल कर उसे चाटने लगता है… जैसे कि वो उसके पैर से खेल रहा हो। जमाल को भी तसल्ली हो गयी… उसकी फ़िक्र खतम हो गयी। वो मुस्कुराया, “अरे यार ये तो तुम्हारे पांव से खेल रहा है!” समीना भी मुस्कुरा दी और जमाल दोबारा से टीवी देखने लगा।ये चुदाई कहानी आप एडल्ट सेक्स कहानी डॉट कॉम पर पड़ रहे है।इधर समीना का पैर टॉमी के लंड से पीछे को जाने लगा… उसकी रान को सहलाते हुए… उसकी दुम्म के नीचे। उसकी गाँड के सुराख के नीचे टॉमी के टट्टे लटके हुए नज़र आये… काले-काले से… गोल-गोल से! समीना ने एक नज़र जमाल खान की तरफ़ देखा और फ़िर अपने सैंडल और पैर के अंगूठे से उसके टट्टों को सहलाने लगी। अपने शौहर जमाल के मोटे-मोटे और बड़े-बड़े टट्टे तो वो सहला ही चुकी थी कईं बार मगर उन छोटे साइज़ के बॉल्स के साथ खेलना भी समीना को अच्छा लग रहा था। वो अपने पैर के साथ उनसे खेल रही थी। साथ-साथ ही वो सोचने लगी के उन टट्टों के अंदर बनने वाली मनी का ज़ायका भी वो ले चुकी हुई है और उसे ये मानने में कोई आर या शरम नहीं थी कि उसे टॉमी… अपने कुत्ते के लंड कि मनी अपने मुँह में बेहद अच्छी लगी थी… उसका ज़ायका उसे बहोत पसंद आया था।

इतने में जमाल खान के मोबाइल पर कोई कॉल आयी। वो उसे अटेंड करके सुनता हुआ लाऊँज से बाहर निकल गया… बाहर लॉन में! जमाल के जाते ही टॉमी ने अपनी जगह से उठ कर छलांग लगायी और सोफ़े पर चढ़ गया और समीना के चेहरे को चाटने लगा। समीना उसकी इस हरकत पर हंसने लगी। उसे इस बात की खुशी भी हुई थी और तसल्ली भी कि टॉमी ने उसके शौहर के सामने उसके साथ कुछ भी गलत करने की कोशिश नहीं की थी। टॉमी उसके गालों और होंठों को चाटने लगा। वो बार-बार अपनी ज़ुबान ऊपर-नीचे को लाता हुआ उसके चेहरे को चाटता और उसके होंठों को चाटता। समीना ने भी अपनी ज़ुबान बाहर निकाली और अपनी ज़ुबान को टॉमी की ज़ुबान से टकराने लगी। समीना की ज़ुबान टॉमी की ज़ुबान से टकराने लगी… एक खूबसूरत औरत की ज़ुबान एक कुत्ते की ज़ुबान को चाट रही थी। दोनों ही एक दूसरे की ज़ुबानों को चाट रहे थे। कुत्ते के मुँह से उसका थूक समीना के मुँह के अंदर जा रहा था मगर समीना उसका कुछ भी बुरा समझे बिना अपने अंदर निगलती जा रही थी और टॉमी की ज़ुबान को चाटती जा रही थी… जैसे वो कोई जानवर नहीं बल्कि उसका महबूब हो और वो उसकी महबूबा… जैसे वो उसका बॉय फ्रेंड हो और वो उसकी गर्ल फ्रेंड… जैसे वो उसका आशिक़ हो और वो उसकी माशूक़ा… जैसे वो एक कुत्ता है तो… तो वो उसकी कुत्तिया! दोनों… बल्कि सिर्फ़ समीना… सब कुछ भूलभाल कर टॉमी को प्यार कर रही थी और फ़िर समीना ने टॉमी के जिस्म पर हाथ फेरते हुए उसे खुद से पीछे किया और सोफ़े से उतरने का इशारा किया। टॉमी खामोशी से सोफ़े पर से उतरा और कमरे के एक कोने में मौजूद अपने छोटे से बिस्तर पर चला गया… सोने के लिये!ये चुदाई कहानी आप एडल्ट सेक्स कहानी डॉट कॉम पर पड़ रहे है।रात को जमाल खान समीना के पास आया और इस रात उसने भी समीना को चोदा। मगर समीना महसूस कर रही थी कि उसे जो मज़ा आज टॉमी के लंड से चुदवाने में आया था वो उसे आज जमाल के साथ नहीं आ रहा था। वो अपने बिस्तर पर लेटी जमाल खान का लंड अपनी चूत में लेने के बावजूद भी आँखें बंद किये टॉमी का… एक कुत्ते का तसव्वुर ही कर रही थी कि वो उसे चोद रहा है और वो उस कुत्ते के लंड के मज़े ले रही है। टॉमी को ही याद करते हुए समीना की चूत ने पानी छोड़ा और फ़िर काफ़ी देर के बाद दोनों सो गये।समीना अगले दिन एक बार फ़िर टॉमी के लंड का मज़ा लेने का सोचती हुई नींद की वादियों में चली गयी। उसे तसल्ली थी कि अब उसे अपनी तनहाइयों का साथी मिल चुका है… उसकी तनहाइयों को रंगीन करने के लिये। उसका दिल अभी भी यही चाह रहा था कि वो जा कर कुत्ते के साथ उसके नरम नरम बिस्तर पर लेट जाये… उसके साथ! मगर फ़िर खुद पर जबर करके सो ही गयी।

सुबह उसकी आँख फोन की बैल की आवाज़ से खुली। देखा तो ज़हरा का फोन था अमेरिका से। पहले भी ज़हरा उसे फोन करती रहती थी. .. . उसका हाल-अहवाल पूछने के लिये… और टॉमी के बारे में जनने के लिये। मगर आज ज़हरा से बात करते हुए समीना का दिल ज़ोर-ज़ोर से धड़क रहा था।

ज़हरा: “हैलो. .. कैसी हो समीना…?”

समीना: “मैं ठीकठाक हूँ… और आप…???”

ज़हरा: “हम भी ठीक हैं… और वो अपने टॉमी का सुनाओ… वो कैसा है?”

समीना: “हाँ वो भी ठीक है… मगर उसने…” समीना कुछ कहते कहते रुक गयी।

ज़हरा की हंसी की आवाज़ सुनायी दी, “क्या हुआ… क्या किया है टॉमी ने?”

समीना घबरा कर बोली, “क…क…कुछ नहीं… कुछ भी तो नहीं…”

ज़हरा की फ़िर आवाज़ आयी, “कहीं इस टॉमी ने तुम को चोद तो नहीं दिया… हाहाहाहा!”

समीना बुरी तरह से घबरा गयी हुई थी, “नहीं… नहीं… वो भला क्यों मुझे…”

ज़हरा हंसी, “हाहाहाहा… वो मैं इसलिये कह रही थी कि… बड़ा ही कमीना है ये कुत्ता… ये तो यहाँ मुझे भी चोदता रहा है… इसलिये मैं तो कह रही थी…”

समीना के मुँह से फ़ौरन ही निकला, “क्या…? क्या आप को भी…???”

ज़हरा हंसी, “हाँ मुझे तो रोज़ ही चोदता था ये… चूत और गाँड दोनों मारता था मेरी… और अब उसका भाई अकेला… वैसे एक बात है कि मज़ा खूब आता है उससे चुदवाने में… क्यों है ना ऐसी बात?”

समीना: “हाँ… नहीं… मेरा मतलब है कि मुझे क्या पता…!” समीना घबरा रही थी।

ज़हरा: “अरे यार मुझसे छुपाने का कोई फ़ायदा नहीं है… बस करती रहो उसके साथ मज़े और इंजॉय करो खूब!”

समीना: “लेकिन….”

ज़हरा: “अरे लेकिन-वेकिन कुछ नहीं… बस मज़े लो… कुछ भी नहीं होगा… किसी को कुछ पता नहीं चलेगा…!!”

समीना: “ओके… बाय… फ़िर बात करेंगे!”

समीना ने फोन बंद कर दिया। उसका दिल ज़ोर-ज़ोर से धड़क रहा था मगर ज़हरा से बातें करके और ये जान कर उसे काफ़ी सुकून मिला था कि वो अकेली नहीं है… किसी और ने भी टॉमी के साथ चुदाई की हुई है… और वो भी ज़हरा ने… जो इतने सालों से अमेरिका में जरूर रहती है लेकिन है तो उसी की तरह पाकिस्तानी ही… ये जान कर उसके चेहरे पर सुकून वाली मुस्कुराहट फैल गयी।अब समीना का अंदाज़ ही कुछ अलग था। वो कुछ अलग ही सोच में थी। अपने शौहर जमाल के साथ नाश्ता करते हुए भी वो पास ही ज़मीन पर बैठे हुए टॉमी को देख-देख कर मुस्कुरा रही थी। जमाल अपने नाश्ते में मगन था और साथ-साथ अपनी हसीन-ओ-जमील बीवी से बातें भी कर रहा था। उस बेचारे को क्या पता था कि उसकी इतनी खूबसूरत बीवी एक कुत्ते से चुदवा रही है! कुछ ही देर में जमाल खान ने नाश्ता किया और अपने दफ़्तर चला गया। जमाल के जाते ही समीना ने घर का अंदर का दरवाज़ा लॉक किया। फिर लाऊँज में अलमारी में से शराब… ये चुदाई कहानी आप एडल्ट सेक्स कहानी डॉट कॉम पर पड़ रहे है।वोडका की बोतल और एक गिलास लेकर अपने कमरे में आ गयी। इस वक़्त भी टॉमी दरवाजे के करीब ही खड़ा था… अंदर आने के लिये। मगर समीना ने मुस्कुरा कर उसे देखते हुए दरवाज़ा बंद कर लिया और कमरे का भी अंदर से लैच लगा लिया ताकि टॉमी अंदर ना सके। शायद आज वो अपने इस महबूब को कुछ तड़पाना चाहती थी। अंदर कमरे में आकर समीना ने अपने जिस्म पर पहना हुआ नाइट गाऊन उतार कर बेड पर फेंक दिया… सैंडल भी उतार दिये और नंगी… बिल्कुल नंगी हालत में शराब की बोतल और गिलास लेकर बाथरूम में घुस गयी। आलीशान बाथरूम में बड़ा सा बाथ-टब था। समीना ने उसमें पानी भरा और साबुन डाल कर झाग बना के बबल-बाथ तैयार किया और फिर उसमें बैठ कर गिलास में शराब भर कर के पीते हुए नहाने लगी। वैसे तो इतनी सुबह वो शराब नहीं पीती थी लेकिन आज वो नशे में मदहोश होकर.. मस्त होकर… अपने टॉमी… अपने कुत्ते… अपने महबूब… के साथ चुदाई का पूरा मज़ा लेना चाहती थी।

करीब आधे घंटे तक वो नहाती रही और इस दौरान उसने काफी शराब.. करीब आधी बोतल पी ली थी। जब वो बाथ-टब से बाहर निकली तो नशे की हालत में थी जो उसे बेहद खुशनुमा लग रहा था… काफी हल्का महसूस कर रही थी…। तौलिये से जिस्म सुखा कर वो बाथरूम से बाहर आयी और हस्ब-मामूल सबसे पहले पैरों में ऊँची पेंसिल हील के सैंडल पहने। फिर वैसे ही बिल्कुल नंगी आईने के सामने बैठ गयी और नशे की मस्ती में हल्का-हल्का गुनगुनाते हुए मेक-अप करने लगी… खुद को बनाने संवारने लगी। उसके दिल की हालत भी अजीब सी हो रही थी ये सोच-सोच कर कि वो… उस जैसी खूबसूरत और जवान औरत… एक कुत्ते को अपना महबूब मानती हुई उसके लिये तैयार हो रही है… उससे चुदने के लिये… उसको सुकून पहुँचाने के लिये… और उसके जिस्म से अपने जिस्म को सुकून देने के लिये! मगर ये सब कुछ सोचते हुए भी उसे बुरा नहीं लग रहा था बल्कि एक मुस्कुराहट थी जो उसके होंठों पर खेल रही थी। मेक-अप करके… अपने होंठों पर लिपस्टिक लगा कर तैयार हुई और खुद को आईने में देखने लग। अपनी तैयारी और अपनी खूबसूरती को देख कर वो खुद भी शरमा गयी… और फिर शोखी से मुस्कुराते हुए अपने निचले होंठ दाँतों में दबा लिये।लेखक: पिंकबेबीये चुदाई कहानी आप एडल्ट सेक्स कहानी डॉट कॉम पर पड़ रहे है।अब मरहला था कपड़ों का। वो सोचने लगी कि क्या पहने। सोचते-सोचते उसे खयाल आया कि क्यों ना आज वो भी टॉमी के जैसे ही रहे… खुद को टॉमी के सामने उसी के जैसी ही बन कर पेश करे! ये सोचते ही उसने कुछ भी पहनने का इरादा तर्क़ कर दिया… सिर्फ़ पैरों में हस्ब-ए-आदत ऊँची पेन्सिल हील के सैंडल जरूर पहने हुए थे। समीना अपने नंगे वजूद को आईने में देखने लगी। उसके खूबसूरत गोरे-गोरे मम्मे तने हुए थे… उनके आगे गुलाबी निप्पल अकड़े हुए क़यामत ढा रहे थे… चूत गोरी-गोरी… गुलाबी चूत… बालों से बिल्कुल पाक… हौले हौले रिस रही थी…  चुदने के लिये पूरी तरह से तैयार थी… एक कुत्ते के लंड को अपने अंदर लेने के लिये बिल्कुल तैयार। खुद को आईने में देखते हुए उसे कुछ खयाल आया और उसके साथ ही उसके होंठों पर एक हल्की सी मुस्कुराहट फ़ैल गयी। वो आईने के सामने से उठी और एक तरफ़ बनी हुई अलमारी की तरफ़ बढ़ी। उसके सबसे निचले हिस्से में से कुछ निकाल कर वापस आईने के सामने आ गयी और उसे अपनी गोरी-गोरी गर्दन में पहनने लगी। उसके हुक बंद किये और खुद को दोबारा आईने में देखने लगी। टॉमी की गर्दन का पट्टा जो उसके गले से उतार दिया गया हुआ था… अब समीना के गले के गिर्द लिपटा हुआ था। समीना ने उसे अपनी गर्दन के गिर्द टाइट करके बाँध लिया हुआ था और अब खुद को इस पट्टे के साथ देख कर उसके चेहरे पर शरम और शरारत के मिलेजुले लाल-गुलाबी रंग फैल गये। पूरी की पूरी कुत्तिया लग रही हो अब तो तुम! समीना खुद से बोली और हंसने लगी। “हाँ तो जब एक कुत्ते से प्यार करुँगी… इस से चुदवाऊँगी… तो कुत्तिया तो बनना ही पड़ेगा ना!” समीना ने अपने सवाल का खुद ही जवाब दिया और फ़िर नशे में लहराती हुई कमरे से बाहर जाने के लिये बढ़ गयी। कुछ देर पहले आधी बोतल शराब पी चुकी हुई थी तो ज़ाहिर है काफी नशे में थी और चलते हुए क़दम भी डगमगा से रहे थे जिससे ऊँची पेन्सिल हील के सैंडल में उसकी चाल वाक़य में नशीली हो गयी थी।

दरवाज़ा खोल कर समीना बाहर निकली और टीवी लाऊँज में इधर-उधर देखा… टॉमी को! टॉमी लाऊँज के कोने में रखे हुए अपने बिस्तर पर बैठा हुआ था। समीना ने मुस्कुरा कर उसे देखा। टॉमी ने भी बड़ी होशियारी का मुज़ाहिरा करते हुए उसे देख लिया था। अब अपनी जगह पर बैठे हुए उसकी नज़र समीना पर ही थी। समीना ने एक अजीब हरकत की… वो नीचे झुकी और कार्पेट पर अपने घुटनों और हाथों के बल हो गयी। फिर अपने घुटनों और हाथों के बल ही चलती हुई… नंगी ही चलती हुई… टॉमी के बिस्तर की तरफ़ बढ़ने लगी… टॉमी के… एक कुत्ते के बिस्तर की ज़ीनत बनने के लिये। समीना ने फ़ैसला कर लिया था कि अगर टॉमी एक जानवर हो कर उसे इस क़दर मज़ा दे रहा है तो वो भी उसी के जैसी हो कर एक जानवर की तरह… एक कुत्तिया की तरह… खुद को उसे पेश करेगी… अपना जिस्म उसे पेश करेगी और उसे पूरा-पूरा मज़ा देगी। इसी लिये वो गले में पट्टा डाले… बिल्कुल नंगी हालत में घुटनों के बल चलती हुई टॉमी के करीब जा रही थी।ये चुदाई कहानी आप एडल्ट सेक्स कहानी डॉट कॉम पर पड़ रहे है।टॉमी के पास जाकर वो टॉमी को प्यार भरी नज़रों से देखने लगी। वो भी अपनी जगह पर ही लेटा हुआ अपनी मालकिन को देख रहा था। समीना आगे बढ़ कर उसके गद्दे पर चढ़ गयी. और आगे झुक कर टॉमी के चेहरे के साथ अपना चेहरा रगड़ने लगी। उसने टॉमी के मुँह को चूमना शुरू कर दिया। फ़िर अपनी ज़ुबान बाहर निकाली और उसके काले होंठों वाले हिस्से को चाटने लगी। टॉमी ने भी अपनी ज़ुबान बाहर निकाली और समीना के मुँह को चाटने लगा। समीना को अपनायत का एहसास हुआ। उसने भी फ़ौरन अपनी ज़ुबान से टॉमी की ज़ुबान को चाटना शुरू कर दिया। दोनों की ज़ुबानें… समीना और टॉमी की ज़ुबानें… एक इंसान और एक जानवर की ज़ुबानें… एक खूबसूरत हसीन औरत और एक कुत्ते की ज़ुबान… एक दूसरे से टकरा रही थीं… एक दूसरे को चाट रही थीं। दोनों का थूक आपस में मिल रहा था। समीना ने दोनों हाथों में उसका मुँह पकड़ा हुआ था और अपनी ज़ुबान को उसकी ज़ुबान से टकरा रही थी… उसे चाट रही थी। फ़िर समीना ने आगे बढ़ कर अपना जिस्म टॉमी के जिस्म से लगा दिया। समीना का गोरा-गोरा चिकना नंगा जिस्म टॉमी की खाल के नरम-नरम फ़र से रगड़ने लगा। समीना को भी मज़ा आ रहा था… उसे अच्छा लग रहा था। वो अपने जिस्म को टॉमी के जिस्म के साथ घिसती हुई मज़ा लेने लगी। साथ-साथ ही अब उसने टॉमी के जिस्म को… उसकी खाल को चूमना शुरू कर दिया था। कभी उसकी कमर के ऊपर से और कभी पेट पर से तो कभी उसकी गर्दन पर से अपने होंठों को उस जानवर के जिस्म से रगड़ने में समीना को मज़ा आ रहा था। उसका हाथ भी टॉमी के जिस्म को सहला रहा था।

समीना टॉमी को अपनी जगह से खड़ा करना चाह रही थी ताकि वो उसे प्यार करे… उसे चोदे! मगर टॉमी अभी भी अपनी जगह पर ही बैठा हुआ था। समीना अपनी जगह से उठी और उसके गद्दे पर उसके आगे पीछे फिरने लगी। कभी उसके पीछे जाती तो कभी उसके सामने आ जाती… फ़िर अपनी खूबसूरत गाँड को उसके सामने लहराने लगती। मगर टॉमी अभी भी सुस्ती के साथ उसके सामने लेटा हुआ था। कभी-कभी जब समीना अपनी गाँड को टॉमी के मुँह के बिल्कुल साथ लगाती तो वो एक दो बार उसकी गाँड को चाट लेता अपनी ज़ुबान से और फ़िर से नीचे अपने सामने पड़े हुए बिस्किट खाने लगता। उसके सामने काफ़ी सारे बिस्किट पड़े हुए थे जो थोड़ी देर पहले समीना उसके लिये डाल के गयी थी। कुछ उनमें से टॉमी ने खा लिये हुए थे और कुछ आधे कुतरे हुए थे और कुछ मुँह से निकाले हुए थे। करीब ही एक खुले से बर्तन में टॉमी के लिये पानी पड़ा हुआ था। कुछ सोच कर समीना मुस्कुरायी और फ़िर नीचे को झुक कर टॉमी के आगे से बिस्किट अपने मुँह से उठा कर खाने लगी। टॉमी ने उसे देखा तो एक बिस्किट अपने मुँह में डाला और फ़िर उसे बाहर निकाल दिया। समीना ने फ़ौरन ही उसे अपने होंठों से अपने मुँह में लिया और टॉमी की तरफ़ देखती हुई खाने लगी… चबाने लगी। उसे बड़ा ही अजीब लग रहा था कि वो एक कुत्ते के मुँह से निकली हुई कोई चीज़ खुद खा रही है। आज से चंद दिन पहले तक तो वो ऐसा तसव्वुर भी नहीं कर सकती थी।ये चुदाई कहानी आप एडल्ट सेक्स कहानी डॉट कॉम पर पड़ रहे है।आखिर कुछ देर के बाद टॉमी अपनी जगह से उठा और गद्दे से नीचे पड़े हुए बड़े से बर्तन में डाले हुए पानी में मुँह मारने लगा। अपनी ज़ुबान अंदर डाल कर लिप-लिप करता हुआ पानी पीने लगा। समीना भी अपने घुटनों के बल फ़ौरन आगे बढ़ी और खुद भी अपना मुँह नीचे कर के उसी बर्तन में डाल दिया और अपनी ज़ुबान निकाल कर कुत्ते के बर्तन में से ही पानी पीने लगी। उसे खुद पे हंसी भी आ रही थी कि वो एक इंसान हो कर जानवर की तरह बर्तन में से पानी पी रही है और मालकिन होते हुए भी अपने कुत्ते के बर्तन में से उसका झूठा पानी पी रही है। कुत्ते की ज़ुबान से पानी में तो कुछ फ़र्क़ नहीं आया ना और जब हम अपनी झूठी चीज़ें उसे दे सकते हैं तो हमें उसका झूठा खाने में और पीने में क्या हर्ज़ है… और फ़िर एक दूसरे का झूठा खाने से ही तो आपस का प्यार बढ़ता है ना। समीना मुस्कुरायी। उसे अपनी इन ही बातों और हरकतों के साथ अपनी चूत भी गीली होती हुई महसूस हो रही थी। समीना ने अपनी एक उंगली नीचे ले जा कर अपनी चूत के अंदर डाली और अपनी चूत के अंदर बाहर किया तो उसे अपनी चूत का गाढ़ा पानी अपनी उंगली पर महसूस हुआ। समीना ने अपनी उंगली वापस ला कर अपने मुँह में डाल कर अपनी ही चूत का पानी चाट लिया। अब समीना दोबारा से घूम कर टॉमी के पीछे आयी और उसकी कमर को चूमने लगी। उसकी दुम्म के नीचे उसके गोल-गोल काले टट्टे लटक रहे थे। समीना ने अपने हाथों से उनको सहलाना शुरू कर दिया। टॉमी ने पानी को छोड़ कर मुड़ कर समीना की तरफ़ देखा और फ़िर से अपना मुँह आगे कर लिया। समिना!

समीना ने टॉमी की कमर को चूमा और फ़िर अपने होंठ टॉमी के काले-काले टट्टों पर रख कर उनको चूमने लगी। समीना ने अपनी गुलाबी ज़ुबान बाहर निकाली और उन काली-काली गेंदों को अपनी ज़ुबान से छेड़ने और उनको चाटने लगी। उसने अपने मुँह से उन पर थूक गिराया और अपनी ज़ुबान उन पर मलने लगी। फ़िर वो उनको बारी-बारी मुँह में ले कर चूसने लगी। बड़ा ही अच्छा लग रहा था उसे… उनको चाटना… उनको चूसना! अलग ही मज़ा आ रहा था समीना को। एक खूबसूरत हसीन औरत एक कुत्ते के पीछे झुकी हुई अपने गुलाबी-गुलाबी होंठों के साथ उस कुत्ते के काले-काले टट्टों को अपने मुँह में ले कर चूस रही थी और अपने मुँह के अंदर ही रखते हुए उन पर ज़ुबान भी फेर रही थी…जैसे पता नहीं कितनी मज़े की चीज़ उसके मुँह के अंदर हो। समीना की नज़र टॉमी के लंड पर पड़ी जो अब आहिस्ता-आहिस्ता उसकी खाल से बाहर निकल रहा था। समीना ने उसकी गोलियों को चूसते और चाटते हुए अपना हाथ आगे बढ़ा कर उसके लंड को पकड़ लिया और उसे अपनी मुठ्ठी में ले कर सहलने लगी… मुठ्ठी में ले आगे-पीछे करने लगी। अब टॉमी भी मस्ती में आ रहा था। समीना ने अब आगे को जा कर टॉमी का लंड अपने मुँह में लिया और उसे चूसने लगी… अपनी ज़ुबान से चाटने लगी… मुँह में ले कर अंदर-बाहर करने लगी… मज़े लेती हुई… इंजॉय करती हुई!ये चुदाई कहानी आप एडल्ट सेक्स कहानी डॉट कॉम पर पड़ रहे है।टॉमी भी अब पूरी मस्ती में आ चुका हुआ था। वो भी अपना लंड समीना के मुँह से चुसवा कर समीना के पीछे लपका और उसकी गाँड को चाटने लगा। समीना ने अपना सिर नीचे को किया और अपनी गाँड को ऊपर को उठाते हुए अपनी चूत को टॉमी के सामने कर दिया। टॉमी ने भी फ़ौरन उसकी चूत को चाटना शुरू कर दिया। उसकी ज़ुबान समीना की चूत के अंदर तक जा रही थी… नीचे से ऊपर तक चाट रही थी… और समीना आँखें बंद किये लज़्ज़त की वादियों में दौड़ रही थी। अचानक ही टॉमी ने समीना पर हमला किया और उसके ऊपर चढ़ कर घस्से मारने लगा। उसका अकड़ा हुआ लंड समीना की गाँड और उसकी रानों से रगड़ रहा था… घिस रहा था और समीना अब हंस रही थी टॉमी की हालत पे। थोड़ी देर पहले तक वो जो आराम से लेटा हुआ था… अब अपना लंड उसकी चूत में डालने के लिये बेचैन हो रहा था और समीना भी अपने कुत्ते के बिस्तर पर उससे चुदवाने के लिये पूरी तरह से राज़ी और तैयार थी। उसने अपना हाथ पीछे ले जाकर अपनी रानों के बीच में से टॉमी का लंड अपने हाथ में पकड़ा और उसे अपनी चूत के सुराख पर टिका दिया। वो खुद भी तो अब ज़्यादा देर बर्दाश्त नहीं कर सकती थी। जैसे ही उसने टॉमी का लंड अपनी चूत के सुराख पर रखा तो टॉमी ने एक ही धक्के के साथ ही अपना लंड समीना की चूत में दाखिल कर दिया और एक ज़ोरदार सिसकारी के साथ समीना तड़प कर रह गयी। उसने खुद को आगे को गिरने से संभाला और फ़िर अपनी गाँड को ऊपर को उठाती हुई अपनी चूत को पीछे को टॉमी के लंड की तरफ़ धकेलने लगी। टॉमी का लंड भी समीना की चूत में अंदर-बाहर होता हुआ उसे चोद रहा था। कुत्ते ने अपनी मालकिन को चोदना शुरू कर दिया था। उसे भी अब यकीन हो गया था कि उसकी मालकिन उसकी कुत्तिया है जिसे वो जैसे चाहे चोद सकता है। उसके धक्कों में तेज़ी आती जा रही थी और हर धक्के के साथ टॉमी का लंड समीना की चूत में गहराइयों तक जा रहा था। समीना हर हर धक्के के साथ कराहती हुई आगे को गिरने लगती जिससे टॉमी का लंड फिसल जाता। इस चीज़ को कंट्रोल करने के लिये टॉमी ने अपने अगले दोनों पैर समीना के कंधों पर रखे और अपना मुँह आगे ला कर समीना के गले में बंधा हुआ उसका पट्टा अपने अगले दाँतों में ले लिया और समीना को अपनी पूरी कूवत के साथ अपनी तरफ़ खींचने लगा और साथ ही पीछे से ज़ोर-ज़ोर के धक्के मारता हुआ अपना लंड जड़ तक समीना की चूत में दाखिल करने की कोशिश करने लगा। समीना का लज़्ज़त के मारे बुरा हाल हो रहा था मगर उसके साथ-साथ उसे अपनी चूत में दर्द भी काफ़ी हो रहा था। मगर फ़िर भी अब वो बेबसी के साथ टॉमी की गिरफ़्त में झुकी हुई थी और उससे चुदवा रही थी। उसकी चूत ने इस दर्मियान एक बार पानी छोड़ दिया था।.

कुछ देर में टॉमी की गिरफ़्त ढीली हुई। उसने समीना के गले में डला हुआ पट्टा अपने मुँह से निकाला तो समीना अचानक से उसके नीचे से निकल गयी और अपने घुटनों और हाथों पर ही भागती हुई सोफ़े की तरफ़ बढ़ी। टॉमी भला अपनी कुत्तिया को कैसे छोड़ सकता था। वो फ़ौरन ही उसके पीछे-पीछे लपका। हंसती हुई समीना सोफ़े पर पहुँची और वहाँ सीधी हो कर लेट गयी। उसने अपनी टाँगों को खोला और अपनी चूत एक बार फ़िर टॉमी के आगे कर दी। टॉमी ने आते साथ ही समीना की चूत को चाटना शुरू कर दिया और अपनी लंबी ज़ुबान के साथ ऊपर से नीचे तक उसकी चूत को चाटने लगा। एक बार फ़िर टॉमी ने ऊपर को छलांग लगायी और अपने अगले पैरों को समीना कि कमर के दोनों तरफ़ सोफ़े के ऊपर रखा और समीना के तक़रीबन ऊपर ही चढ़ आया। उसका लंड नीचे से समीना की चूत के करीब था और उसकी चूत के इर्दगिर्द टकरा रहा था। एक बार फ़िर समीना ने हाथ बढ़ा कर टॉमी के चिकने लाल-लाल लंड को अपने हाथ में पकड़ा और उसे अपनी चूत के ऊपर रगड़ने लगी। टॉमी के मोटे लंड को अपने हाथ की गिरफ़्त में रख कर उसे अपनी चूत पर रगड़ना बहोत ही मुश्किल काम था समीना के लिये क्योंकि टॉमी तेज़ी के साथ धक्के मार रहा था… ये चुदाई कहानी आप एडल्ट सेक्स कहानी डॉट कॉम पर पड़ रहे है।अपना लंड अपनी मालकिन की चूत के अंदर दाखिल करने के लिये। और फ़िर समीना ने कुत्ते के लंड की नोक को अपनी चूत के सुराख पर टिकाया और अगले ही लम्हे कुत्ते के एक ही धक्के के साथ ही उसका लंड समीना की चूत के आखिरी सिरे तक उतर गया। समीना के मुँह से एक दर्द ओर मस्ती भरी तेज़ चींख निकली मगर उसके बाद तो दे दनादन कुत्ते ने समीना की चूत को चोदना शुरू कर दिया। उसका लंड तेज़ी के साथ समीना की चूत में अंदर-बाहर हो रहा था और समीना भी अब अपनी आँखें बंद करके उसके लंड के तेज़ी के साथ अपनी चूत में अंदर-बाहर होने की तकलीफ को बर्दाश्त कर रही थी और साथ में ही मज़े भी ले रही थी। चंद बार ही टॉमी का लंबा लंड समीना की चूत के अंदर आखिरी हद तक टकराया तो समीना की चूत ने पानी छोड़ दिया। उसके जिस्म ने तेज़-तेज़ झटके लिये और चूत की दीवारों ने टॉमी के लंड को भींचा और साथ ही अपना पानी निकल गया उसका!

समीना का जिस्म निढाल सा हो गया था… वो ढीली पड़ चुकी थी मगर टॉमी तो अभी भी मस्ती में था। एक कुत्ता हो कर… एक खूबसूरत औरत की चूत मिलने का नशा था उस पर और वो बस उसे चोदे जा रहा था। उसके लंबे मोटे लाल लंड की नोक समीना की चूत के अंदर उसकी बच्चा दानी से टकरा रही थी और वो और भी ज़ोर लगा रहा था जैसे कि वो अपने लंड को समीना की बच्चा दानी के अंदर दाखिल करना चाहता हो। टॉमी अपने दोनों पैर समीना की कमर के गिर्द रख के अगले हिस्से से सोफ़े पे चढ़ा हुआ था और पूरे का पूरा समीना के नाज़ुक जिस्म के ऊपर था। समीना ने टॉमी के लंड को उसके पिछले हिस्से की गोलाई के पीछे से पकड़ रखा था ताकि आज टॉमी अपने लंड का ये खतरनाक हिस्सा उसकी चूत के अंदर दाखिल ना कर सके और आज भी वो कल की तरह उसके लंड पर ही फंसी ना रह जये। मगर… टॉमी के इरादे तो खतरनाक ही थे। आखिर था तो वो एक जानवर ही ना और वो भी एक वहशी जानवर जो कि हवस और सैक्स की आग में और भी वहशी हो जाता है और टॉमी वहशी ही तो होता जा रहा था। उसके धक्कों… ये चुदाई कहानी आप एडल्ट सेक्स कहानी डॉट कॉम पर पड़ रहे है।उसके घस्सों की रफ़्तार तेज़ से तेज़ होती जा रही थी। उसकी भी एक ही ख्वाहिश थी ना कि अपनी चुदाई की तकमील कर सके और वो तकमील तो तब नहीं हो सकती थी जब तक कि उसका लंड पूरे का पूरा यनि उसकी गोलाई उसकी कुत्तिया… उसकी मालकिन… उसकी समीना की चूत के अंदर जाकर ना फंस जाये क्योंकि उसके बिना तो कुत्तों को शायद मज़ा ही नहीं आता था ना! और यही हालत टॉमी की थी! उसकी पूरी कोशिश थी के अपना लंड समीना की चूत में पूरे का पूरा डाल दे और अपने ताक़तवर धक्कों की मदद से आखिरकार वो अपनी इस कोशिश में कामयाब हो ही गया। शराब के नशे और चुदाई की मस्ती में समीना भी तो उसकी ताक़त का मुक़ाबला नहीं कर सकती थी ना ज़्यादा देर तक! आखिर उसका हाथ भी टॉमी के लंड पर से हट गया और अगले ही लम्हे टॉमी का पूरा लंड अपनी पिछली गोलाई समेत उसकी चूत के अंदर उतर गया और उसकी टाइट चूत ने टॉमी के लंड को जकड़ लिया और टॉमी के लंड का अगला नोकीला हिस्सा समीना की बच्चा दानी का सुराख पार करता हुआ बच्चा दानी के अंदर घुस ही गया। एक तेज़ चींख के साथ समीना ने अपने बाज़ू टॉमी के नीचे से उसके जिस्म के गिर्द लपेट लिये और उसे अपने जिस्म के साथ दबा लिया।ये चुदाई कहानी आप एडल्ट सेक्स कहानी डॉट कॉम पर पड़ रहे है।जैसे ही टॉमी के लंड का अगला हिस्सा समीना की चूत के अंदर दाखिल हुआ तो एक बार फ़िर समीना की चूत ने पानी छोड़ दिया और उसे खुद भी टॉमी के लंड से हल्का-हल्का पानी उसकी चूत के अंदर गिरता हुआ महसूस होने लगा। समीना की आँखें बंद थीं और उसकी चूत पानी छोड़ रही थी और वो एक बार फ़िर अपनी मंज़िल को पहुँच चुकी थी। कुछ देर के बाद समीना को थोड़ा होश आया तो उसे एहसास हुआ कि वो टॉमी के नीचे है… उसके जिस्म के साथ लिपटी हुई है… टॉमी का लंड उसकी चूत के अंदर है और उसकी तमामतर कोशिश के बावजूद भी टॉमी के लंड की मोटी गोलाई उसकी चूत के अंदर फंस चुकी है। इस सारी सूरत-ए-हाल को समझने के बाद समीना सिर्फ़ मुस्कुरा कर रह गयी कि अब उसे कुछ देर इंतज़ार करना पड़ेगा…टॉमी के फ़ारिग़ होने का! अपनी चूत में कुत्ते के लंड के फंसे होने का भी आखिर अलग ही मज़ा है… अलग ही… बेहद मस्ती भरा एहसास है!कैसी लगी कुत्ते के साथ औरत की सेक्स , अच्छा लगी तो शेयर करना , अगर कोई समीना की चूत की चुदाई करना चाहते हैं तो उसे अब ऐड करो Facebook.com/Lund ki pyasi bhabhi

The Author

Hindi sex kahani

Hindi sex kahani, chudai kahani, adult kahani, youn kahani, bhai behan ki sex kahani, devar bhabhi ki sex kahani, maa bete ki sex kahani, baap beti ki sex kahani, brother sister sex hindi story, desi kahani, desi xxx kamukta story, antarvasna ki sex kahani
Story chudai ki adult sex kahani © 2018 Frontier Theme